कलयुग का कृष्ण

2
96

मां मैं कलयुग का कृष्ण बनुंगा ,

पीताम्बर छोड आज से सूट, बूट, टाई पहनुंगा ।

मां मैं कलयुग का कृष्ण बनुंगा ।।

मोर मुकुट आउटडेट हो गया,

मेरे शीश अब हैट लगेगा,

सुदशॆन चक्र की जगह मोरी मैया,

हाथ में आइ फोन एट रहेगा ।

मैं भी सुन्दर युवक दिखुंगा ।

मां मैं कलयुग का कृष्ण बनुंगा ।।

माखन मिश्री कड़वी लगती है,

पिजा व बगॆर ही खाऊंगा ।

गाय चराने नहीं जाना अब,

मैं तो डिस्कोथिक जाऊंगा,

सबसे अच्छा डांस करूंगा ।

मां मैं कलयुग का कृष्ण बनुंगा ।।

मुरली की धुन ककॆष लगती अब,

टी वी पर फिल्में देखुंगा,

धमॆ की चॆचा नहीं सुहाती,

राजनीति में कदम रखुंगा,

नित्य नये घोटाले करूंगा

मां मैं कलयुग का कृष्ण बनुंगा ।।

2 COMMENTS

Comments are closed.