पतझड़ और बसंत

5
131

पतझड़ ने पूछा बसंत से, क्यों इतना इतरा रहे हो।
मेरे गमन पर तुम्हारा आगमन सम्भव है, क्यों मुझे बेवजह चिढा रहे हो॥
मौसम का मिजाज हरदम बदलता है, कल मेरा था आज तुम्हारा है।


जोश त्याग होश में आवो इस जहां में, सभी को सिर्फ अपना स्वार्थ प्यारा है॥
बसंत पतझड़ को उपहासित करते हुये, पुरजोर उल्लास से चहका।
तुम्हारे कारण जो मौसम उदास था, मेरे
आगमन से उसका रोम-रोम है महका।
उपवन ने इस उलझन को सस्नेह सुलझाया,मौसम के आवागमन का मर्म बतलाया॥
तुम दोनों का परिवर्तन है अत्यन्त जरूरी,

5 COMMENTS

  1. ??? ??? ??? ?? ?? ???? ???? ?? ????????? ?? ??????????? ???? ?? ??? ?? ?????? ?? ???????? ???? ??, ???? ??? ?????? ??? ?? ???-???? ?????? ????? ??? ????? ??????? ?? ???? ?? ???? ??????? ???? ??, ?? ????? ?? ????? ?? ???????? ?? ??????? ???? ????

    ????? ??? ????? ???? ??? ??? ???, ???? ?????? ?? ?? ???? ?????????? ??? ????? ???? ??????? ?? ?????? ?? ??? ????

Comments are closed.